Ashish Pandey a young and unknown writer. In a short span of time, I developed some popular platforms like 5ab.in TitForTech.com and apnikalam.com (Instant Approval Article Publishing Websites). Many of my articles, poems, and stories have been published in the newspaper like Dainik Savera.

सामाजिक तथा राजनैतिक विषयों और समस्याओं को प्रकशित करना और सच से रूबरू कराना ही मेरा मुख्य लक्ष्य है। अफवाहों के दौर में सच को सामने लाने का निरंतर और अथक प्रयास करता रहूँगा। आप सभी के सुझाओं का सवागत है। मुझसे जुड़े रहने के लिए और मुझे अपने साथ जोड़ने के लिए फॉलो करें।

मैं अपने साथ समस्त गुमनाम आवाजों को जोड़ना चाहता हूं जो गूँज बनना चाहते हैं। जो कलम से बदलाव लाना जानते हो । तो आइए जुड़िऐ मेरे साथ और मुझे अपने साथ जुड़ने का अवसर प्रदान कीजिये, मुझे फॉलो करना न भूलें (Follow me on Quora)

Ashish Pandey – अक्षर जो पहचान बदल दे

Main bhi duniya dekhungi

Haal ae tringa hai | हाल ए तिरंगा written by Ashish Pandey

Poem Haal Ae Tringa

Na tu mainu dukhi jani
Na bhala Changa hai
Mera bhi ohi haal
Jo haal ae tringa hai.

Sun udham singh, raaj guru
Sukhdev teri gal kara.
Bana Bhagat singh tere warga
Eho ja koi kamm kara
Je Jang kursi di dilli vich
Kashmir ch v danga hai
Meri v ohi haal
Jo haal ae tringa hai.

Bada lutya angreja ne
Chhadya kakh na palle
Bachya lut rahe sansad wale
Kar siyasi hamle
Je mada si chacha nehru
Te aj da kehda changa hai
Mera v ohi haal
Jo haal ae tringa hai.

Kirat kar, mil shak
Nanak raah apniye
Pai jaiye aj sidde rahe
Nasha mukt panjab baniye
Guruan peran di mitti punjabi
rang khooni vich rangya hai
Mera v ohi haal
jo haal ae tringa hai

प्राणियों की पुकार, Praniyo’n ki Pukar | Poem written by Ashish Pandey

मुरझाये फूल सूखे पत्ते तड़पती चिड़ियों का नारा है |
बचा लो हमें ये संसार तुम्हारा है||
ये वादियां ये पर्वत, पानी की लहरों ने पुकारा है |
बचा लो हमें ये संसार तुम्हारा है||

मत बन स्वार्थी हे इंसान|
समझो हमको तुम अपने सामान||
न काटो जंगलो को तुम|
फैलाओ हरे रंगो को तुम|
यही तो जीने का सहारा है|
बचा लो हमें ये संसार तुम्हारा है||

चली गयीं चिड़िया पुकार|
अब तो सुन शेरों की गुहार||
कई सालों से झेल रहे|
जीव जंतु इंसानो की मार||
कल के लुप्त जानवरो में |
अबकी नाम हमारा है|
बचा लो हमें ये संसार तुम्हारा है||

Poem Mat Lena Re Dahej written by Ashish Pandey

Mat Lena Re Dahej  by Ashish Pandey

हम भी करें,
तुम भी करो ,
आओ मिल के करें परहेज़,
माथे का कलन्क बुरा।
मत लो ना रे दहेज़्।।

लाड्ली है मेरे घर की,
नाज़ो से सजाई,
मन मे सावन कि झ्ड़ी
हस्ते ह्स्ते की बिदाई।
बेटियां हैं घर कि लक्ष्मि
फिर चन्न पैसों क क्युं खेज़
माथे का कलन्क बुरा।
मत लो ना रे दहेज़्।।

बहुएं फांसी भी चढ़ रहीं
बेटीयां आग में झुलस रहीं
बात नही सिर्फ मेरे घर की
कोने कोने मे यहि घट रही
अब तो समझो देश वासीयो
चिन्ता बढ़ रही है तेज
माथे का कलन्क बुरा।
मत लो ना रे दहेज़्।।

खौफ़ खाओ खुदा क तुम
बहू बेटीयों मे फ़र्क नही
लगालो गले से उसे
बना लो तुम स्वर्ग यहिं
जीवन मे प्यार रहे
घर मे खुशहाली कि सेज़
माथे का कलन्क बुरा।
मत लो ना रे दहेज़्।।

आओ मिल के हम ठान ले
इस रोग को दूर भगाएंगे
न हो इसकी समाज मे जगह
न बात मन मे लाएंगे
जब घर मे आइ साक्क्षात लक्ष्मि
फिर टी वी और क्युं मेज़
माथे का कलन्क बुरा।
मत लो ना रे दहेज़्।।

Ashish Pandey story writing award

मन की बात, Man ki baat Short story written Ashish Pandey

“बेटी ये चाय टीम A को दे आओ “माँ बोली” अरे आज टीम A दिखाई नहीं दे रही, है कहाँ? “दादा जी चाय की चुस्की लेते हुए बोले,”. मतलब घर मे सभी हम बाप बेटे को टीम A के नाम से जानती थी. कारण बताऊँ तो कुछ ज्यादा खास नहीं था, इतना भर की मेरा और पापा जी नाम A शब्द से शुरू होता है और मैं पापा का लाडला भी था तो पापा ने हम दोनों का नाम टीम A रख दिया। मेरे और पापा के बीच गजब का रिश्ता था, था नहीं मतलब है और हमेशा रहेगा।. क्या जमती थी अपनी मानो मैं पापा का बेटा नहीं बचपन का दोस्त हूं। घर मे रत्ती भर भी बात पापा से छुप नहीं पाती थी,अरे भाई घर मे कोई कैमरा या रिकॉर्डर नही लगा था, मैं बता जो देता था । पापा की गैर हाजरी मे चमचा कहते थे सब मुझको, और मैं ये बात भी पापा को बता देता था।

एक रात खाने की मेज पर …..”पापा बताओ आज खाने में खास क्या बना है?”, बहन बोली”. और पापा ने अंदाजा लागते हुए कहा, “आज दही बरे बने हैं”। दीदी को मालूम थे मैंने ही बताया होगा और तुरंत मेरी तरफ घूर के देखने देखने लगी मनो मैंने बता के कोई गुनाह कर दिया हो। अरे भाई मैंने तो बस इसलिए चुपके से पापा को फ़ोन कर के बता दिया ताकि पापा बाहर से कुछ खा के न आएं और अपना पसंदीदा दही बरे खा सकें। वैसे तो हम भाई बहन में बहुत प्यार था पर जब बात टीम A की होती तो बहन के गाल फूल जाते। दीदी अक्सर पापा को कहती, मैं टीम A
में क्यों नहीं हूँ मेरा नाम भी तो A से ही है। पापा हर बार कहते अभी भर्ती नहीं निकली ।

बारिश का दिन था सब लोग चाय और पकौड़े का लुत्फ़ उठा रहे थे की, -टिंग टॉँग- दरवाजे की घंटी बजी, पापा ने दरवाजा खोला, डाकिया था। चिठ्ठी आई थी मेरे नाम की। पापा ने बिना खोले बता दिया था की नौकरी के लिए चिठ्ठी है, जो साक्षात्कार (Interview) मैंने छह माह पूर्व दिया था उसकी चिठ्ठी आज आई। मैंने पापा से जोश भरे स्वर में पूछा पापा कार्यग्रहण तिथि (जोइनिंग तिथि) कब की है? पापा दोगुना जोश और ख़ुशी दिखते हुए बोले, “बेटा कार्यग्रहण तिथि तो मात्र 4 दिन बाद की है। मुझसे लगता है बारिश के वजह से चिठ्ठी आने में देरी हो गई”

“चाय चाय लुधिअना की बढ़िया अदरक इलाइची वाली चाय” मैं चौक कर चाय वाले की तरफ देखने लगा। “साहब चाय लेंगे”, मैंने न में सर हिला दिया।. लुधिअना आ गया था । मैं उन दिनों की सोच में इतना डूब गया था की पेड़ पौधे बिजली के खम्भों की तरह स्टेशन भी तेजी से गुजरते गए। न भूलने वालीं यादें थी सब। पापा से बात किये पूरे एक साल हो गए थे। मैं टेलीफ़ोन तो हर रोज करता था मगर पापा कभी फ़ोन में नहीं आये और माँ भी कह देती थी की पापा सब्जी लेने गए । मैं बेसबरी से जालंधर आने का इंतज़ार कर रहा थे। अब यही रेलगाड़ी मनो बैलगाड़ी की चल चलने लगी थी। इंतज़ार के लम्हे सच में बहुत लम्बे होते हैं।

पानी की तरह अटूट रिश्ते के बीच दरार का कारण कुछ बहुत गहरा नही था. पापा का खुद से ज्यादा मुझ पर विश्वास ही हमे इस मोड़ पर ले आया था | पापा को ये लगता था कि मैं उनके किसी भी faisle को nakarunga nahi. bas yahi bharosa tootna hi sab se bara karan tha ki aaj papa mujh se baat nahi karna chahate. hua yun tha ki dilli jane se teen din pehle papa mere kamre me aaye aur bole “jane ki sari tayari ho gayi.” ji papa meri to ho gayi aur aapki. are bete tere baap hun do din pehle se hi kar ke baitha hun bahut hi khushi ke saath bole. suno beta mujhe tumhe bahut jaroori baat karni hai. ikdam se bahut gambhir ho ke bole .parson achanak hi tumhara offer letter aa gaya aur jana bhi das ko hai anyatha tu bhi sana se mil lete. ye sunte hi mere pairon tale zameen khisak gayi. bete pichhle hafte sharma ji aaye the aur unhone apni beti ki shadi tumse karne ka prastav rakhha. to maine bhi keh diya bhai tumne larka dekha hai aur maine larki bhi dekh rahi hai. mujhe pasand hai. unhone to kaha bhi ki ek baar tumse baat kar le par maine to keh diya are mere aur mere bete ki pasand ek hi hai meri ha to uski na ho hi nahi sakti. papa par aap ko mere se bhi ek baar pooch lene chahiye tha. maine kampate hue hotho se kaha.papa main ye shadi nahi kar sakta. par kyun papa turant bole. papa main aditi se pyar karta hun.papa ik dam se kursi pe baith gaye. papa to kuch der bole hi nahi. papa main aapko aditi ke bare me batane ka sahi awsar dekh raha tha. jab job mili batane ka samay aaya to aapne shadi ka prastav rakh diya. papa kuch nahi bole chup chap uth kar apne kamre me chal diye maine unse baat karne ki koshish ki parantu wo ruke nahi.pichhle bees saal me pehli baar mere aur papa ke beech man matoa hua. raat ko papa dining table par bhi nahi aaye. aaj subah se papa apne room se nahi nikle. . usi shant mahaul me bhi wo din bhi nikal gaya. agle din sab meri tyari me jute the sab kaam jaldi jaldi ho raha tha . par mera in halat me gha chhodne ko ik fisadi bhi dil nahi kar raha tha. kya karta jana to tha hi. main subah se papa ke room ki or dekh raha tha ki kab papa bahar aaye. dekhte dekhte jane ka samay bhi ho gaya. taxi darwaje pe aa ke khari ho gayi.main papa ke room me gaya papa mujhe maaf kar dena keh kar charan sparsh ke liye haath aage badhya papa ne pau ik kadam peeche kheench liye. papa ne jate samay aashirwaad bhi nahi diya. tab se lekar aaj tak mere aur papa ke beech wartalaap nahi hui.

pure safar ke dauran team a ki yaadon me ghira raha ki kab jalandhar aa gaya pata hi nahi chala. apne sehar me kadam rakte hi dil me toofan sa uth gaya. main samajh nahi pa raha tha ki ye ghar jane ki khushi hai ya papa ka samna karne ka dar.station ke bahar taxi lagi thi. taxi me baith gya. are ye to lucky bhaiya hain. maine unse turant uncle papa kaise hain. uncle ne kaha theek hain roj mulakaat hoti thi jab wo sham ko mere pco pe aate the. no. milate the bolte bhi nahi te aur rakh dete the. lekin maine kal se pco band kar taxi chalane laga. uncle ke chup hote hi main phir main kayi sawalo ke beech ghir gaya” kaise samna kar paunga pita ji ka. kya wo mujhe maaf kar denge. kya kahunga main unse. kaise najre mila paunga.kya hum phir kahi team a ban payenge.?” taxi ruki ghar samne tha taxi se bag utara. kadam darwaje ki taraf badh hi nahi rahe the. un sawalon ke jawab doondh raha tha. jaise taise darwaje ki taraf pahuncha bell bajate hi dhadkane tej ho gai. maa ne darwaja khola aur bina antraal gale se laga ke ro pari.didi bhi daudi daudi aayi. par meri nighain to papa ko doondh rahi thi. maa kichen se boli beta tere pita ji market gaye hain maa ne mano meri aakhein padh li. kuch der baad papa bhi aa gaye papa ko dekh main khara ho gaya.papa ki or badha lekin papa ne sabji ka thaila kichen me rakh ke seedha chhat pe apne room me chale gaye. main bhi papa ke peechhe peehhe room me chala gaya. samajh nahi aa raha tha ki kya kahu..papa thankyou..magar kis baat ke liye papa kuch der ke baad bole maine kaha meri man pasand matar gobhi lane ke liye maine thaile me dekh liya. aur mujhe phone karne ke liye bhi thankyou. maine koi phone nahi kiya. papa turant bole. papa chhupao mat.mujhe achhi tara yaad hai ki bahut baar mujhe jalandhar ke code se blank call aati thi. mujhe lucky bhaiya ne bata diya ki aap roj pco se mujhe phone karte the aur baat nahi karte the. ye sun papa bhi khud ko rok nahi sake aur mujhe gale se laga liya. ha phone karta tha teri awaz sun phone rakh deta tha. ab poora pariwaar papa ke room me aa gaya. papa ne kaha mana ki uska naam a se hai lekin a team me aane ke kuch niyam hote hain aditi ko samjha dena use. ye sun meri khushi satwe aasmaan ko chhu rahi thi. khabar daar agar kisi ne hamein a team nahi kaha tha to. par is baar behan chhidi nahi.yethi a team ki kahani A ki jubani.
Ashish kumar
krd 616 jalandhar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here